तोते पर निबंध



तोता हरे रंग का एक बहुत ही प्यारा पक्षी होता है। तोता और भी दूसरे रंगों में पाया जाता है लेकिन उनकी संख्या कम होती है। भारत में तोता घरों में पाले जाने वाला सबसे लोकप्रिय पक्षी है। तोते को कई सारे लोग बड़े प्यार से पिंजरे में पालते हैं। तोते का सबसे महत्वपूर्ण गुण यह है कि यह मनुष्य की आवाज की नकल कर सकता है। तोता बड़े ध्यान से मनुष्य की आवाज को सुनता है और सुनने के बाद उसे एक बच्चे की तरह दोहराता है। यह देखकर लोगों को खासकर के बच्चों को बड़ा मजा आता है और वह तोते को नई-नई चीजें बोलने के लिए उसके पास जाकर तरह-तरह की आवाजें निकालता है।

तोते का हरा रंग बड़ा ही निराला होता है और तोते का लाल चोंच उसके हरे रंग पर बड़ा ही जँचता है। तोते की चोंच काफी अजीब सी टेढ़ी होती है जिसे लोगों को देखने में बड़ा मजा आता है। तोते की गर्दन पर काले रंग का रिंग होता है जो दिखने में काफी सुंदर होता है। तोते की आंख भी गोल-गोल और बड़ी सुंदर होती है।

तोते की एक खासियत यह भी है कि उसे हरी मिर्च खाना बहुत ज्यादा पसंद है। तोता पिंजरे में बड़े मजे से रहता है और अगर उसे पिंजरे से बाहर निकाल दिया जाए तो तोता झुंड में रहना पसंद करता है। तोता को अमरूद खाना भी बड़ा पसंद है। तोते को दूसरे बीज और फल भी काफी पसंद है।

कई सारे लोग तोते को इतनी ट्रेनिंग दे देते हैं कि तोता पिंजरे से बाहर इंसानों के साथ रहता है और इंसानों के साथ बहुत ज्यादा खेलता है और इंसानों की आवाज की नकल करता है।

तोते की ज्यादा मांग की वजह से कई सारे लोग जंगलों से कई सारे तोते पकड़ लाते हैं और उसे बेचकर पैसे कमाते हैं। इस वजह से तोते की संख्या लगातार घटती जा रही है।

जो लोग घर में तोते पाल रहे हैं उन्हें तोते का अच्छे से ख्याल रखना चाहिए। वैसे सारी पक्षियों को आजादी पसंद है और अगर संभव हो तो तोते को आजाद छोड़ देना चाहिए।

(Word Count : 350)

Leave a Reply

Your email address will not be published.