भारत में कामयाब होने के तरीके

भारत की आबादी इतनी ज्यादा है कि हर फिल्ड में कॉम्पिटिशन बहुत ही ज्यादा है, लेकिन आप के सफल होने के अवसर भी बहुत है। अगर आप अच्छी नौकरी पाना चाहते है तो आप पढाई को थोड़ा सीरियस लें। बहुत सारे स्टूडेंट तो सिर्फ रटने में विश्वास करते है। डिग्री मिलने के बाद भी अगर उनसे कुछ बेसिक पूछा जाये तो वह उसका उत्तर नहीं दे पाते है।

अगर आप ध्यान से पढाई करें और किताब में दी गयी इनफार्मेशन का महत्व समझे तो आप किसी भी एग्जाम में बेहतर प्रदर्शन कर सकते है।

अगर आप बिज़नेस करना चाहते है, तब तो आप के लिए भारत में और भी कई opportunity है। बहुत सारे लोग तो बिज़नेस से काफी दूरी बनाये रखना चाहते है क्योंकि वो असफलता से इतना डरते है कि उनकी हिम्मत ही नहीं होती कि किसी बिज़नेस को स्टार्ट कर सके। अगर आप साहस करके बिज़नेस शुरू करें तो आपको सफलता जरूर मिलेगी।

भारत में ज्यादातर लोग बिना मेहनत के नौकरी पाकर आराम से जीवन काटना चाहते है। अगर आप जीवन में सफल होना चाहते है तो कभी भी मेहनत करने से नहीं डरें।

2 Comments

  1. प्रेम सिल्ही, संयुक्त राष्ट्र अमरीका

    सभ्य और विकसित देशों में व्यक्तिगत सफलता देश निर्माण के साथ इस प्रकार जुड़ी हुई है कि नागरिक और शासन मिल एक दूसरे के लिए प्रोत्साहन समर्थन व सहायता द्वारा देश को सुंदर, सुदृढ़ व संपन्न बना सकल नागरिकों के जीवन को सुखमयी करती हैं| भारत में अत्यंत गरीबी और अज्ञानता की चिरस्थाई अवस्था के कारण ऐसा वातावरण उत्पन्न करने के लिए घर के बाहर गली मुहल्लों में स्वच्छता और सुंदरता बहुत आवश्यक है| राष्ट्रप्रेम में लिप्त जीवन विशेषकर ग्रामीण जीवन के सभी क्षेत्रों में अंग्रेजी के प्रयोग के स्थान पर न केवल व्यक्तिगत अपितु समाज में सभी नागरिकों की सफलता के लिए हिंदी भाषा के साथ प्रांतीय भाषाओं में निपुणता उस से भी अधिक आवश्यक है| अंग्रेजी भाषा सीखना उन लोगों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा जो अपने व्यवसाय में विदेश व स्वदेशी अंग्रेजी भाषियों से कार्यकारी अथवा संवादात्मक संपर्क बनाए हुए हैं|

  2. Gaurav negi

    My name is Gaurav my dream is a shaftveyar injineayar
    Main Chahata Hun Ki Main engineer Mein engineering, engineering ko Apne Mata Pita ka naam Roshan karo Arun Vijay is ke liye bahut mehnat karni padti hai mujhe Din Raat padhai karne mein Lagana padta hai

Leave a Reply