गर्मी की छुट्टी पर निबंध



गर्मी की छुट्टी का बच्चों को बहुत ज्यादा इंतजार रहता है। सालभर में गर्मी की छुट्टी ही है जिसमें सबसे ज्यादा दिनों तक स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को छुट्टी मिलती है। गर्मी की छुट्टी में ही बच्चों को रोज स्कूल जाने की रूटीन से आजादी मिलती है और पढ़ाई का बोझ भी कम रहता है। इसी समय बच्चों को परीक्षा का भय नहीं रहता है।

गर्मी की छुट्टी में ज्यादातर बच्चे अपने गांव जाते हैं और वहां जाकर अपने दादा-दादी, नाना-नानी और भी परिवार के सदस्यों से मिलते हैं। वहाँ कई सारे बच्चे एक जगह जमा होते हैं और खूब खेलते हैं, नई-नई चीजें खाते हैं।

गर्मी की छुट्टी में बच्चों का सामाजिक विकास काफी अच्छे से होता है। वह संयुक्त परिवार और अपने आसपास के लोगों से घुलते मिलते हैं। अपने आसपास के लोगों के बारे में काफी कुछ जानने को मिलता है। उनकी रहन-सहन को देखते हैं, उनसे काफी कुछ सीखते हैं और लोगों में कैसे सामंजस्य बनाया जा सके यह भी सीखते हैं।

कई सारे बच्चे नई-नई चीजें गर्मी छुट्टी में सीखते हैं जैसे पेंटिंग, ड्राइंग, म्यूजिक, स्पोर्ट्स आदि। गर्मी छुट्टी में ही बच्चों की अभिरुचियों का पता चलता है। उन्हें यह पता चलता है कि उनका रूचि किस चीज में है। गर्मी की छुट्टी में कई सारे लोग अपने बच्चों को लेकर कोई टूरिस्ट प्लेस भी घूमने जाते हैं और काफी मजा करते हैं।

गर्मी छुट्टी में ही बच्चे अपनी जितनी मर्जी हो उतना सो सकते हैं और जब मन किया तभी वह जग सकते हैं, इसी समय बच्चों पर कोई ज्यादा दबाव नहीं रहता है।

गर्मी छुट्टी में किये गए कई सारे काम बच्चों को जीवन भर याद रहते हैं और कई सारी नई चीज सिखा देते हैं।

(word count: 300)

Leave a Reply

Your email address will not be published.