गर्भावस्था के दौरान इन बुरी आदतों से बचें

गर्भावस्था के दौरान किसी भी तरह की लत या बुरी आदत का असर सिर्फ मां पर ही नहीं बल्कि गर्भस्थ शिशु पर भी पड़ता है। गर्भवती महिला अपनी इन बुरी आदतों से कई बार अपने बच्चे के लिए नुकसान का कारण बन जाती है। अगर मां प्रेग्नेंसी के दौरान भी शराब, सिगरेट जैसी बुरी आदतों को नहीं छोड़ती है तो बच्चे में ऑक्सीजन की कमी, हार्ट रेट का बढ़ना, कम वजन के साथ प्रीमैच्योर डिलीवरी, फेफड़ों में संक्रमण के आलावा गर्भपात की आशंका भी बढ़ जाती है।

प्रेगनेंसी में इन बुरी आदतों से बचें –

  • गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान आपके शरीर में रक्त के परिसंचरण को प्रभावित करता है और बच्चे को आवश्यक राशि तक ऑक्सीजन पहुंचने से बाधित कर सकते हैं। बच्चे में ऑक्सीजन की कमी से गर्भपात, मृत प्रसव, फेफड़ों में संक्रमण या बच्चे का हार्ट कमजोर हो सकता हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान शराब पीना बहुत नुकसानदायक होता है। शराब प्लेसेंटा के माध्यम से सीधे बच्चे तक आसानी से पहुँच जाती है और बच्चे के सेहत को नुकसान पहुंचाती है।
  • गर्भावस्था के दौरान बहुत ज्यादा कैफीन बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है। चाय या कॉफी में मौजूद कैफीन प्लेसेंटा के जरिए बच्चे के शरीर में पहुंचकर उसके मेटाबॉलिज्म और हार्ट रेट को बढ़ा देता है। यह गर्भपात की संभावना को बढ़ा सकते हैं और जन्म के समय कम वजन का कारण भी हो सकता है।
  • गर्भवती महिला को कोल्डड्रिंक्स नहीं पीना चाहिए। कोल्डड्रिंक्स भूख मारती है। कोल्डड्रिंक्स अधिक पीने से मोटापा, मधुमेह, दांत संबंधी समस्याएं और पोषक तत्वों की कमी होने लगती है जो मां के साथ-साथ बच्चे के विकास पर असर डालती है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान कच्चा मांस, कच्चे अंडे और जंक फूड नहीं खाना चाहिए।
  • कई बार गर्भवती महिला को कैल्शियम की कमी के कारण मिट्टी, चॉक, चूना आदि खाने का मन करता है। इस आदत से मां के पेट में कीड़े हो जाते है जो बच्चे को भी संक्रमित कर टायफाइड, पीलिया रोग का कारण बन सकता है।

Leave a Reply