बेल के फायदे

बेल फल को बिल्व भी कहा जाता है। यह एक जड़ी बूटी है। बेल में कई औषधीय गुण पाया जाता है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता हैं। बेल फल में कैल्शियम, फॉस्फोरस, विटामिन, फाइबर, प्रोटीन और आयरन सहित कई पोषक तत्व होते है। बेल कब्ज, अपच, बवासीर, मधुमेह, कैंसर, सांस की समस्या, दस्त, पेचिश, सूजन और विभिन्न यौन रोग को रोकने में मदद करता है।

बेल के औषधीय गुण –

  • बेल फल को कब्ज का इलाज करने के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक उपचार माना जाता है। बेल के रस में नमक और काली मिर्च पाउडर मिलाकर शर्बत बनाकर पीने से कब्ज में राहत मिलता है।
  • बेल आंत में कीड़े को नष्ट करने में मदद करता है और पाचन विकार के लिए एक अच्छा उपाय है क्योंकि बेल फल पाचन के लिए बहुत अच्छा होता है।
  • बेल मधुमेह के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। यह रक्त में शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  • बेल के पत्तों का प्रयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है।
  • बेल के गूदा को गुड़ के साथ मिलाकर खाने से थकान दूर होती है और शरीर में अतिरिक्त ऊर्जा मिलती हैं।
  • गर्मियों में अत्यधिक प्यास को नियंत्रित करने के लिए बेल के गूदा को शहद के साथ मिलाकर खाना चाहिए। इस मिश्रण को मुंह के छालों पर लगाने से आराम मिलता है।
  • बेल के पेड़ की शाखाओं में गोंद जैसा पदार्थ होते हैं, यह डायरिया और पेचिश के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • बेल फल का रस, गर्म पानी और चीनी का मिश्रण रक्त को शुद्ध करने के लिए अच्छा होता है।
  • इसमें मौजूद एंटी वायरल और एंटी फंगल गुण शरीर में विभिन्न संक्रमण के उपचार में मदद करता है।
  • बेल के पेड़ की जड़ कान दर्द के उपचार में सहायक होता है।
  • बेल अस्थमा या पुरानी खांसी की तरह सांस की बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है।
  • नियमित बेल खाने से गुर्दे की समस्याओं को कम कर सकते है।

Leave a Reply