छत्रपति शिवाजी पर निबंध

छत्रपति शिवाजी 17वीं शताब्दी के एक महान राजा और वीर योद्धा थे। उनका जन्म महाराष्ट्र के शिवनेरी दुर्ग में हुआ था। बचपन से ही छत्रपति शिवाजी काफी बहादुर थे। उनकी मां जीजाबाई ने उन्हें धार्मिक घटनाओं के द्वारा हिंदू धर्म के प्रति दिलचस्पी जगाई।

छत्रपति शिवाजी महाराज बचपन से ही इतने बहादुर थे कि उन्होंने सिर्फ 14 वर्ष की उम्र से ही कई दूसरे निजामों से लड़ाई की और उन्हें हरा कर कई किलो पर कब्जा कर लिया। इससे उनकी ताकत काफी बढ़ गई। उन्होंने मराठा ताकत को जन्म दिया। उन्होंने मराठा साम्राज्य की स्थापना के लिए काफी महत्वपूर्ण लड़ाइयां लड़ी। छत्रपति शिवाजी में संगठन स्थापित करने की एक अद्भुत क्षमता थी।

छत्रपति शिवाजी की बहादुरी से मुग़ल साम्राज्य को भी खतरा लगने लगा था। औरंगजेब ने शिवाजी को हराने के लिए काफी प्रयास किया। लेकिन शिवाजी औरंगजेब के कब्जे में आने के बाद भी उनके कब्जे से मुक्त होने में सफल रहें।

छत्रपति शिवाजी मराठाओं की शक्ति मजबूत कर एक संगठित मराठा साम्राज्य की स्थापना किए और मराठा साम्राज्य के पहले छत्रपति बनें। उनके राज में लोगों का पूरा ध्यान रखा जाता था और सभी धर्म के लोग आजादी से रह सकते थे। छत्रपति शिवाजी की मृत्यु सन्‌ 1680 ई. में हुई। छत्रपति शिवाजी  महाराज की बहादुरी और न्यायप्रियता को आज भी लोग याद करते हैं।

(word count: 200)

Leave a Reply